हिंदी के खण्ड काव्य

पिछली पोस्ट में हमने हिंदी के महाकाव्यों को सूचीबद्ध किया था । आज की इस पोस्ट में हम हिंदी साहित्य के आदिकाल से लेकर आधुनिक काल तक हिंदी में रचित खण्ड-काव्यों को सूचीबद्ध करेंगे ।

आदिकाल में रचित खण्ड-काव्य :
  1. अब्दुर्रहमान कृत संदेशरासक
  2. नरपतिनाल्ह कृत बीसलदेव रासो
  3. जिनधर्मसुरि कृत थूलिभद्दफाग
भक्तिकाल में रचित खण्ड काव्य :
  1. नरोत्तमदास कृत सुदामाचरित
  2. नंददास कृत भंवरगीत, रुक्मिणी मंगल
  3. तुलसीदास कृत पार्वती मंगल, जानकी मंगल
रीतिकाल में रचित खण्ड-काव्य :
  1. पद्माकर विरचित हिम्मत बहादुर बिरदावली
आधुनिक काल के खण्ड काव्य :

भारतेंदु युग में रचित खण्ड-काव्य :
  1. श्रीधर पाठक का एकांतवासी योगी
  2. जगन्नाथ दास रत्नाकर का हरिश्चंद्र
द्विवेदी युग में रचित खण्ड-काव्य :
  1. मैथिलीशरण गुप्त : रंग में भंग, जयद्रथ वध, नलदमयंती, शकुंतला, किसान, अनाथ
  2. सियारामशरण गुप्त : मौर्य विजय
  3. रामनरेश त्रिपाठी : मिलन, पथिक
  4. द्वारिका प्रसाद गुप्त : आत्मार्पण
छायावाद युग में रचित खण्ड-काव्य :
  1. सुमित्रानंदन पंत : ग्रंथि
  2. रामनरेश त्रिपाठी : स्वप्न
  3. मैथिलीशरण गुप्त :पंचवटी, अनध,वनवैभव, वक-संहार
  4. अनूप शर्मा : सुनाल
  5. सियारामशरण गुप्त : आत्मोत्सर्ग
  6. सूर्यकांत त्रिपाठी निराला : तुलसीदास
  7. शिवदास गुप्त : कीचक वध
  8. श्याम लाल पाठक : कंसवध
  9. रामचंद्रशुक्ल "सरस " : अभिमन्यु वध
  10. गोकुल चंद्र शर्मा : प्रणवीर प्रताप
  11. नाथूराम शंकर शर्मा : गर्भरण्डा रहस्य, वायस विजय
छायावादोत्तर युग में विरचित खण्ड-काव्य :
  1. मैथिलीशरण गुप्त : नहुष, कर्बला, नकुल, हिडिम्बा
  2. बालकृष्ण शर्मा "नवीन" : प्राणार्पण
  3. सोहनलाल द्विवेदी : कुणाल
  4. रामधारी सिंह दिनकर : कुरुक्षेत्र
  5. श्याम नारायण पांडे : जय हनुमान
  6. उदयशंकर भट्ट : कौन्तेय-कथा
  7. आनंद मिश्र : चंदेरी का जौहर
  8. गिरिजादत्त शुक्ल "गिरीश" : प्रयाण
  9. गोपालप्रसाद ब्यास : कदम-कदम बढ़ाए जा
  10. डॉ रुसाल : भोजराज
  11. नरेश मेहत्ता : संशय की एक रात
..................................................................................................................................................................

टिप्पणियाँ

  1. वाह बहुत बढ़िया लिखा है आपने! विजयादशमी की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  2. School ki yaad aa gai aapka blog dekh kar....dhanyavaad jankree badhane ka.

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपके हिंदी साहित्य के ज्ञान को प्रणाम... प्रिय लेखकों के नाम पढ़ कर अच्छा लगा...

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणी का इंतजार है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आदिकाल के प्रमुख कवि और उनकी रचनाएँ

रीतिकाल की प्रवृत्तियाँ

छायावाद की प्रवृत्तियां