संदेश

November, 2010 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

रीतिकालीन वीर काव्य के कवि और उनकी रचनाएँ

रीतिकाल में वीर काव्य धारा के दर्शन भी होते हैं । वीर रस की फुटकल रचनाएँ निरंतर रची जाती रही । जिनमें युद्धवीरता और दानवीरता दोनों की बड़ी अत्युक्तिपूर्ण प्रशंसा भरी रहती थी । भूषण इस काव्य-प्रवृत्ति के प्रमुख कवि हैं । भूषण का काव्य युग की प्ररेणा की उपज कहा जा सकता है । अपने युग के जिस आदर्श नायक शिवाजी का भूषण ने अपने काव्य में चित्रण किया है , वह उसकी अपनी मनोभावनाओं का साकार रूप है, किसी सामंत की प्रतिमूर्ति नहीं । भूषण ने शिवाजी और छत्रसाल को काव्य-नायक बनाकर उनके वीर कृत्यों का ओजस्वी भाषा में चित्रण किया है । भूषण के अतिरिक्त लाल, सूदन, पद्माकर, सेनापति, चंद्रशेखर, जोधराज, भान और सदानंद आदि कवियों ने भी वीर-काव्य की रचनाएँ की हैं । 
1. भूषण की मुख्य रचनाएँ हैं :- शिवराज भूषण, शिवा बावनी, छत्रसाल दशक, भूषण उल्लास, दूषण उल्लास, भूषण-हजारा ।
2. सेनापति की वीर काव्य रचनाएँ :- गुरु शोभा, चाणक्य नीति का भावानुवाद
3. लाल : छत्रप्रकाश
4. सूदन : सुजानचरित
5. चंद्रशेखर : हम्मीरहठ

रीतिकालीन रीतिमुक्त भक्ति काव्य

पूर्वमध्य काल (भक्ति काल) में भक्ति की जो निर्गुण,सूफी,राम-काव्य और कृष्ण काव्य की धाराएँ प्रवाहित हुई थी । वे अविरल रूप से रीतिकाल में भी चलती रही । निर्गुण कवियों में यारी साहब (बाबरी संप्रदाय के प्रसिद्ध संत),दरिया साहब, जगजीवन दास, पलटू साहब, चरनदास, शिवनारायण दास और तुलसी साहब (हाथरस वाले) के नाम उल्लेखनीय हैं । सूफी या प्रेमाख्यान कवियों में कासिमशाह, नूरमुहम्मद तथा शेख निसार के नाम उल्लेखनीय हैं । बोधा और चतुर्भुजदास ने भी इस काव्य प्रवृत्ति की रचनाएँ इस काल में की हैं । राम काव्य परम्परा में गुरु गोविन्द सिंह ,जानकी रसिक शरण(अवध सागर), जनकराय, किशोरी शरण(20 राम काव्य), भगवंत राय खिची(रामायण), विश्वनाथ सिंह(6 राम काव्य) आदि के नाम उल्लेखनीय हैं । कृष्ण काव्य में भक्ति की पवित्र धारा पर श्रृंगार हावी हो गया । फलत: राधा-कृष्ण (हरि और राधिका) की आड़ में मानवी श्रृंगार का प्रचलन हो गया ।प्रबंधात्मक कृष्ण-भक्ति काव्य रचनाकारों में ब्रजवासीदास तथा मंचित कवि उल्लेखनीय हैं । मुक्तक कृष्ण-काव्य की बहुलता रही ,ऐसे रचनाकारों में  रूपरसिकदेव, नागरीदास,अलबेली, चाचा हितवृन्दावन दास आदि का ना…

रीतिकालीन रीतिमुक्त नीतिकाव्य

रीतिकाल में रीतिमुक्त नीति काव्य भी रचा जाता रहा । नीतिकाव्य इस युग की एक प्रमुख प्रवृत्ति रही । वृन्द,गिरधर कविराय, दीनदयाल गिरि, लाल और सूदन जैसे कवियों ने विपुल नीति साहित्य की रचना की । वृन्द ने सरल,सरस भाषा में कलापूर्ण सूक्तियाँ कही हैं । गिरधर कविराय ने व्यवहार और नीति से संबद्ध कुंडलियाँ लिखी । दीनदयाल गिरि ने स्वच्छ, सुव्यवस्थित और परिष्कृत भाषा में जो अन्योक्तियाँ कही,वे नीतिसाहित्य में मूर्धन्य स्थान रखती हैं । नीतिकाव्य के इन कवियों की रचनाएँ इस प्रकार हैं ::-
01. वृंद : 1.वृंद सतसई 2.भाव पंचाशिका 3.यमक सतसई 4.श्रृंगार शिक्षा 5.चोर पंचाशिका 6.पवन पचीसी 7.सत्यस्वरूप 8.भारतकथा 9.समेतशिखर 02. गिरधर कविराय : सांई (कुंडलियाँ)03. लाल : 1.छत्र प्रकाश 2.विष्णु विलास 04. सूदन :1.सुजान चरित 05. दिनदयाल गिरि :06. बैताल : 07. सम्मन :  
दीनदयाल गिरि की अन्योक्तियों के कुछ उदाहरण :
हे पांडे यह बात को,को समुझै या ठांव । इतै न कोऊ हैं सुधी, यह ग्वारन गांव ॥यह ग्वारन को गांव, नांव नहिं सूधे बोले ।बसै पसुन के संग अंग ऐंडे करि डौलले ॥बरनै दीनदयाल छाछ भरि लीजै भांडे ।कहा कहौं इतिहास, सुनै को इत…

रीतिमुक्त कवि और उनकी रचनाएँ

रीतिकाल में रीतिमुक्त या स्वछंद काव्य भी रचा जा रहा था । इस प्रकार का काव्य भाव-प्रधान था । इसमें शारीरिक वासना की गंध नहीं , वरन हृदय की अतृप्त पुकार है । राधा और कृष्ण की लीलाओं के गान के बहाने नहीं, बल्कि सीधे-सादे रूप में वैयक्तिक रूप की स्पष्ट अभिव्यक्ति है । भावात्मकता, वक्रता,लाक्षणिकता, भावों की वैयक्तिकता, मार्मिकता,स्वच्छंदता आदि इस वर्ग के कवियों की विशेषताएँ हैं । इस वर्ग के कवियों में घनानंद, आलम, बोधा और ठाकुर के नाम प्रमुख हैं । इनकी रचनाएँ इस प्रकार हैं :- 
1. घनानंद : प्रमुख रचनाएँ : 1.सुजानसागर 2. विरहलीला 3.कोकसार 4. रसकेलिबल्ली 5. कृपाकांड ।  2. आलम : 1. आलम केलि, 2.सुदामा चरित 3.श्यामस्नेही 4.माधवानलकामकंदला । 3. बोधा : 1.विरहबारीश 2.इश्कनामा ।  4. ठाकुर : 1.ठाकुर ठसक । 

रीतिसिद्ध कवि

रीतिसिद्ध उन कवियों को कहा गया है, जिनका काव्य ,काव्य के शास्त्रीय ज्ञान से तो आबद्ध था, लेकिन वे लक्षणों के चक्कर में नहीं पड़े । लेकिन इन्हें काव्य-शास्त्र का पूरा ज्ञान था । इनके काव्य पर काव्यशास्त्रीय छाप स्पष्ट थी । रीतिसिद्ध कवियों में सर्वप्रथम जिस कवि का नाम लिया जाता है, वह है : बिहारी । बिहारी रीतिकाल के सर्वाधिक लोकप्रिय कवि हैं । बिहारी की एक ही रचना मिलती है, जिसका नाम है "बिहारी सतसई" । सतसई का शाब्दिक अर्थ है : सात सौ (सप्तशती) । "बिहारी सतसई" में सात सौ दौहे होने के कारण इसका नाम सतसई रखा गया । डॉ. गणपति चंद्र गुप्त "बिहारी सतसई" लिखने का कारण कुछ यूं बताते हैं : कहते हैं कि जयपुर के महाराजा जयसिंह अपनी एक नवविवाहिता रानी के सौंदर्यपाश में इस प्रकार बंध गए थे कि वे रात-दिन महल में ही पड़े रहते थे । इससे उनका राज-काज चौपट होने लग गया । सभी राज्य-अधिकारी परेशान हो गए । सब चाहते थे कि राजा महल से निकल कर बाहर आए, किंतु किसी की हिम्मत नहीं थी कि वह इसके लिए राजा से प्रार्थना कर सके । ऐसे ही समय में महाकवि घूमते हुए जयपुर पहुँचे । उन्होंने सार…