आदिकाल की परिस्थितियाँ

राजनीतिक दृष्टि से यह युग भारतीय इतिहास में पतन और विघटन का युग है । सम्राट हर्षवर्धन की मृत्यु के पश्चात देश में एकछत्र शासन का अभाव हो गया था। राष्ट्र छोटे-छोटे राज्यों में बँट गया । राजसत्ता अस्थिर हो गई । इन राज्यों के शासक आपस में मिथ्या शान और अभिमान में पड़कर लड़ने लगे । लड़ाइयों का प्रमुख उद्देश्य जर, जोरु और जमीन के लिए शौर्य-प्रदर्शन ही होता था । यह साधारण सा नियम बन गया था -
जाकी बिटिया सुंदर देखी, ता ऊपर जाइ धरि तरवारी
कवि जगनिक ने निम्न पंक्तियों में क्षत्रिय के गुण गिना दिए -
बारह बरिस लौ कूकर जीवै, और तेरह लौ जियै सियार।
बरिस अठारह छत्री जीवै, आगे जीवन को धिक्कार ।।
तात्पर्य यह है कि किसी न किसी बहाने राजाओं की तलवार म्यान से बाहर रहती थी ।

दूसरी ओर आपस की फूट में फँसे हुए हिंदू राजाओ पर पश्चिम की ओर से मुसलमानों ने भी आक्रमण करने आरंभ कर दिए थे । इस प्रकार यह युग आंतरिक अशांति एवं बाह्य आक्रमण से त्रस्त युग था ।

धार्मिक दृष्टि से इस युग में बौद्ध धर्म का ह्तास होने लगा था, शंकाराचार्य और कुमारिल भट्ट जैसे विद्वानों ने उनकी कमर तोड़ दी थी । ब्राहम्ण धर्म फिर से पनपने लगा था ।

सामाजिक दृष्टि से इस युग में राजा का महत्व सर्वोपरि था । उसकी इच्छा पर सम्पूर्ण राज्य निर्भर था । साधारण जनता का कोई महत्व नहीं था । इस दृष्टि से इसे सामंतवादी युग कहा जा सकता है ।

टिप्पणियाँ

  1. मनोज भारती जी पहली बार आपके ब्लॉग पर आय अच्छा लगा ...

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणी का इंतजार है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आदिकाल के प्रमुख कवि और उनकी रचनाएँ

छायावाद की प्रवृत्तियां

रीतिकाल की प्रवृत्तियाँ