ब्लॉग से पोस्टों की चोरी

आजकल लोग ब्लॉग से पोस्टों की चोरी कर,उसे अपने ब्लॉग और साइट पर अपने नाम से प्रकाशित कर सस्ती लोकप्रियता पाना चाहते हैं। कुछ ऐसा ही काम किया है,एक सम्मानित संस्था 'राष्ट्रभाषा प्रचार समिति' के नाम से स्थापित साइट/ब्लॉग ने, जिसमें किसी Author: chandansenji ने 'बूंद-बूंद इतिहास'से तीन पूरी पोस्टें लेकर प्रकाशित की हैं, बिना किसी संदर्भ, लिंक या ब्लॉग का उल्लेख किए। 

हम ऐसे सभी ब्लॉग/साइट्स का पुरजोर विरोध दर्ज करते हैं, जो किसी भी ब्लॉग से,किसी रचना को चोरी करकेअपने ब्लॉग/साइट पर किसी अन्य नाम से प्रकाशित करते हैं। 

उक्त चंदनसेनजी ने तो राष्ट्रभाषा प्रचार समिति,वर्धा जैसी प्रतिष्ठित संस्था का नाम बदनाम किया है। जो मेरी निम्न तीन पोस्टों को हुबहु अपने नाम से प्रकाशित किया है।

01. हिंदी साहित्य का स्वर्णिम युग ( 14 जुलाई 2010 को 'बूंद-बूंद इतिहास' पर प्रकाशित)
02. रीतिकाल की प्रवृतियाँ या विशेषताएँ ( 08 जनवरी 2011 को 'बूंद-बूंद इतिहास' पर प्रकाशित)
03. रीतिकाल की परिस्थितियाँ ( 12 जनवरी 2011 को 'बूंद-बूंद इतिहास' पर प्रकाशित)

उक्त वेबसाइट का लिंक नीचे दे रहा हूँ।

सभी ब्लॉग पाठकों से अनुरोध है कि वे इस प्रकार की रचना/कृति चोरी का पुरजोर विरोध दर्ज करें।

टिप्पणियाँ

  1. यहां चोर-उचक्के तो घूमते ही रहते हैं. अपने ब्लाग की सामग्री को कट/कापी प्रूफ बनाना एक सीमित उपाय है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. इन दिनों चोरी का मौसम चल रहा है.. ऐसे कमीने लोगों की निंदा करते हैं हम..

    उत्तर देंहटाएं
  3. अब तो वह वैबसाइट ही ग़ायब दिख रही है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सस्ती लोकप्रियता का ओछा तरीका..! निश्चय ही यह छिछोरापन है. मुन्नाभाई बनने में शर्म भी नहीं आती इनको. कितनी भी होशियारी कर ले किंतु एक-न-एक दिन चोर चौराहे पर नंगा जरूर होता है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. Plagiarism ki baat parh kar bahut bura laga.

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणी का इंतजार है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आदिकाल के प्रमुख कवि और उनकी रचनाएँ

छायावाद की प्रवृत्तियां

रीतिकाल की प्रवृत्तियाँ