छायावादी युग के कवि और उनकी रचनाएं

छायावाद के प्रमुख कवि हैं- सर्वश्री जयशंकर प्रसाद,सुमित्रानंदन पंत,सूर्यकांत त्रिपाठी'निराला' तथा महादेवी वर्मा। अन्य कवियों में डॉ.रामकुमार वर्मा, हरिकृष्ण'प्रेमी',जानकी वल्लभ शास्त्री,भगवतीचरण वर्मा,     उदयशंकर भट्ट,नरेन्द्र शर्मा,रामेश्वर शुक्ल 'अंचल' के नाम उल्लेखनीय हैं। इनकी रचनाएं निम्नानुसार हैं :-

1. जय शंकर प्रसाद (1889-1936 ई.) के काव्य संग्रह : 1.चित्राधार(ब्रज भाषा में रचित कविताएं); 2.कानन-कुसुम; 3. महाराणा का महत्त्व; 4.करुणालय; 5.झरना ;6.आंसू; 7.लहर; 8.कामायनी।

2. सुमित्रानंदन पंत (1900-1977ई.) के काव्य संग्रह : 1.वीणा; 2.ग्रन्थि;3.पल्लव; 4.गुंजन ;5. युगान्त ;6. युगवाणी; 7.ग्राम्या;8.स्वर्ण-किरण; 9. स्वर्ण-धूलि;10. युगान्तर; 11.उत्तरा ;12. रजत-शिखर; 13.शिल्पी; 14.प्रतिमा; 15.सौवर्ण; 16.वाणी ;17.चिदंबर; 18.रश्मिबंध; 19.कला और बूढ़ा चांद; 20.अभिषेकित; 21.हरीश सुरी सुनहरी टेर; 22. लोकायतन; 23.किरण वीणा ।

3. सूर्यकांत त्रिपाठी 'निराला'(1898-1961ई.)के काव्य-संग्रह: 1.अनामिका ;2. परिमल; 3.गीतिका ;4.तुलसीदास; 5. आराधना;6.कुकुरमुत्ता; 7.अणिमा; 8. नए पत्ते; 9.बेला; 10.अर्चना ।

4. महादेवी वर्मा(1907-1988ई.) की काव्य रचनाएं: 1.रश्मि ;2.निहार; 3.नीरजा; 4.सांध्यगीत; 5.दीपशिखा; 6.यामा ।

5. डॉ.रामकुमार वर्मा(1905- )की काव्य रचनाएं :1.अंजलि ;2.रूपराशि; 3.चितौड़ की चिता; 4.चंद्रकिरण; 5.अभिशाप ;6. निशीथ; 7.चित्ररेखा;8.वीर हमीर; 9. एकलव्य।

6. हरिकृष्ण'प्रेमी'(1908- )की काव्य रचनाएं : 1.आखों में ;2.अनंत के पथ पर; 3.रूपदर्शन; 4. जादूगरनी; 5.अग्निगान; 6.स्वर्णविहान।

टिप्पणियां

  1. प्रस्तुति अच्छी लगी । मेरे पोस्ट अच्छा लगा । दीपावली की शुभकामनाएं ।

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत-बहुत धन्यवाद सर जी

    जवाब देंहटाएं
  3. Very nice....iska audio provide krate to or v acha hota...but jitna v hai it's amezing ...and helpful...thank u so much

    जवाब देंहटाएं
  4. सुभद्रा कुमारी चौहान किस युग की कवित्री है

    जवाब देंहटाएं
  5. Gave very good information thank you so much sir and ma,am

    जवाब देंहटाएं

टिप्पणी पोस्ट करें

आपकी टिप्पणी का इंतजार है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भारतेंदु युग के काव्य की प्रवृत्तियाँ (विशेषताएँ)

द्विवेदी युग के कवि और उनकी रचनाएँ