कृष्णभक्ति को समर्पित अन्य कवि

इस युग में कृष्ण भक्ति को समर्पित कुछ अन्य कवि भी हुए, जिसे किसी विचारधारा के अंतर्गत नहीं रखा जा सकता । जैसे मीरा, रहीम, रसखान । मीरा हिंदी की श्रेष्ठ भक्त कवयित्री है । इनकी भक्ति को हम सगुण-निर्गुण में नहीं रख सकते । वे तो कृष्ण-प्रेम में इतनी तल्लीन हो जाती थी, कि उन्हें अपने तन की भी सुध नहीं रहती थी । जैसी साधना, तन्मयता, सरलता,विरह-वेदना, प्रेम की पीड़ा मीरा के पदों में मिलती है, वैसी हिंदी साहित्य में अन्यत्र कहीं नहीं । मीरा बाई के नाम से निम्नलिखित सात रचनाएँ मिलती हैं :
1. नरसी जी रो माहेरी 2. गीत-गोविंद की टीका 3. मीराबाई की मलार 4. राग-गोविंद 5. सोरठ के पद 6. मीरानी 7. मीरा के पद । इन रचनाओं में से मीरा की पदावली को ही विद्वान प्रामाणिक मानते हैं । उनके ये गीत ब्रज, राजस्थानी और गुजराती भाषाओं में मिलते हैं ।

रहीम : रहीम का पूरा नाम अब्दुर्रहीम खानखाना था । ये सम्राट अकबर के संरक्षक मुगल सरदार बैरमखाँ के पुत्र थे । अरबी और फारसी के अतिरिक्त रहीम संस्कृत के दिद्वान थे और हिंदी कविता में इनकी विशेष रुचि थी । सम्राट के नवरत्नों में इनकी गिनती होती थी । अकबर के समय में ये प्रधान सेनापति तथा मंत्री के पद पर आसीन थे । रहीम की उदारता और दानशीलता विख्यात है । ये अपने समय के कर्ण माने जाते हैं । गंग कवि को उसके दो पदों छंदों पर प्रसन्न होकर रहीम ने एक बार छत्तीस लाख रुपए दे दिए थे । मुस्लिम होने पर भी रहीम हिंदू संस्कृति के अनुरागी थे ।वे कृष्ण और राम भक्त थे । गोस्वामी तुलसीदास जी का भी इनसे अपार स्नेह था । इनकी प्रमुख रचनाएँ हैं : 1.रहीम दोहावली 2. बरवै नायिका भेद 3. शृंगार सोरठ. 4.मदनाष्टक 5. रासपंचाध्यायी । रहीम ने अधिकतर ब्रज तथा अवधि भाषा में लिखा है । भाषा पर रहीम का अधिकार तुलसी से किसी भांति कम नहीं । न्होंने दोनों भाषाओं पर समान अधिकार से लिखा । इन्होंने अधिकतर मुक्तक काव्य रचा । इनकी रचनाओं में जीवन के अनुभूत सत्य मार्मिक रूप से चित्रित हुए हैं । रहीम का जीवन अनुभव गहरा और विशाल था । इसी से उनके पद्य कोरे पद्य मात्र नहीं बल्कि उनमें जीवन की सच्ची अनुभूति है । उनके मुक्तक ज्ञान,भक्ति,नीति तथा श्रृंगार से संबंधित हैं । रहीम के मुक्तक, विशेषकर दोहे परवर्ती कवियों को भी प्रभावित करने में समर्थ हुए ।

रसखान : रसखान का जीवनवृत्त किंवदंतियों के आधार से मिलता है । इनका असली नाम सैयद इब्राहीम था । अपने आराध्य देव कृष्ण की छवि निहारकर यह मियाँ से रसखान हो गए । इनका संपूर्ण कृतित्व अभी तक प्राप्त नहीं हो सका है । कवि के मुक्तक सवैया,कवित्त और दोहे छंद में हैं ; जो चार संग्रहों में मिलते हैं :1. सुजान रसखान 2. प्रेमवाटिका 3. बाललीला और 4. अष्टायाम । रसखान भक्ति, प्रेम और श्रृंगार के रससिद्ध कवि हैं । प्रेम के सुंदर उद्गार उनकी रचनाओं में मिलते हैं । प्रेम और शृंगार से संबंधित इनके कवित्त और सवैयों को इतनी ख्याति मिली कि जनसाधारण इनके सवैयों को ही रसखान कहने लगे । सवैया सुनाओ के स्थान पर लोग रसखान सुनाओ कहने लगे । समस्त हिंदी साहित्य में इनके सवैयों की सरलता अद्वितीय है । प्रेमाभिव्यंजना के लिए अन्य कृष्णभक्त कवियों की तरह गीतिकाव्य को न अपना कर इन्होंने कवित्त, सवैया और दोहा छंद को ग्रहण किया । रसखान में रस के साथ कला भी है । इनकी भाषा सरल,चलती और शब्दाडम्बर से मुक्त है ।


टिप्पणियाँ

  1. राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह बहुत बढ़िया लगा! इस बेहतरीन पोस्ट के लिए बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  3. krishnadhara ki jaankaario ko samte yah post bahut hi laabhkaari rahi ,ati sundar ,hare rama hare krishna ,jai hind bhi saath me jahan aese sant huye .

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत विषद अध्ययन है इस विषय पर आपका ।

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणी का इंतजार है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आदिकाल के प्रमुख कवि और उनकी रचनाएँ

रीतिकाल की प्रवृत्तियाँ

छायावाद की प्रवृत्तियां