रीतिकालीन वीर काव्य के कवि और उनकी रचनाएँ

रीतिकाल में वीर काव्य धारा के दर्शन भी होते हैं । वीर रस की फुटकल रचनाएँ निरंतर रची जाती रही । जिनमें युद्धवीरता और दानवीरता दोनों की बड़ी अत्युक्तिपूर्ण प्रशंसा भरी रहती थी । भूषण इस काव्य-प्रवृत्ति के प्रमुख कवि हैं । भूषण का काव्य युग की प्ररेणा की उपज कहा जा सकता है । अपने युग के जिस आदर्श नायक शिवाजी का भूषण ने अपने काव्य में चित्रण किया है , वह उसकी अपनी मनोभावनाओं का साकार रूप है, किसी सामंत की प्रतिमूर्ति नहीं । भूषण ने शिवाजी और छत्रसाल को काव्य-नायक बनाकर उनके वीर कृत्यों का ओजस्वी भाषा में चित्रण किया है । भूषण के अतिरिक्त लाल, सूदन, पद्माकर, सेनापति, चंद्रशेखर, जोधराज, भान और सदानंद आदि कवियों ने भी वीर-काव्य की रचनाएँ की हैं । 

1. भूषण की मुख्य रचनाएँ हैं :- शिवराज भूषण, शिवा बावनी, छत्रसाल दशक, भूषण उल्लास, दूषण उल्लास, भूषण-हजारा ।
2. सेनापति की वीर काव्य रचनाएँ :- गुरु शोभा, चाणक्य नीति का भावानुवाद
3. लाल : छत्रप्रकाश
4. सूदन : सुजानचरित
5. चंद्रशेखर : हम्मीरहठ

टिप्पणियाँ

  1. अच्छी जानकारी मिली! धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  2. हिंदी साहित्य के लिए आपका यह योगदान बहुत महत्वपूर्ण है
    चलते -चलते पर आपका स्वागत है

    जवाब देंहटाएं
  3. रीतिकालीन रचनाओं का प्रधान रस क्या है।

    जवाब देंहटाएं
  4. Thank you so much you are the great 😊😊☺️☺️🙏🙏

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणी का इंतजार है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

छायावाद की प्रवृत्तियां

आदिकाल के प्रमुख कवि और उनकी रचनाएँ

प्रयोगवाद के कवि और उनकी रचनाएं