प्रयोगवाद

प्रयोग शब्द का सामान्य अर्थ है, 'नई दिशा में अन्वेषण का प्रयास'। जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में प्रयोग निरंतर चलते रहते हैं। काव्य के क्षेत्र में भी पूर्ववर्ती युग की प्रतिक्रिया स्वरूप या नवीन युग-सापेक्ष चेतना की अभिव्यक्ति हेतु प्रयोग होते रहे हैं। सभी जागरूक कवियों में रूढ़ियों को तोड़कर या सृजित पथ को छोड़ कर नवीन पगडंडियों पर चलने की प्रवृत्ति न्यूनाधिक मात्रा में दिखाई पड़ती है। चाहे यह पगडंडी राजपथ का रूप ग्रहण न कर सके। सन् 1943 या इससे भी पांच-छ: वर्ष पूर्व हिंदी कविता में प्रयोगवादी कही जाने वाली कविता की पग-ध्वनि सुनाई देने लगी थी। कुछ लोगों का मानना है कि 1939 में नरोत्तम नागर के संपादकत्व में निकलने वाली पत्रिका 'उच्छृंखल' में इस प्रकार की कविताएं छपने लगी थी जिसमें 'अस्वीकार','आत्यंतिक विच्छेद' और व्यापक 'मूर्ति-भंजन' का स्वर मुखर था तो कुछ लोग निराला की 'नये पत्ते', 'बेला'  और 'कुकुरमुत्ता' में इस नवीन काव्य-धारा के लक्षण देखते हैं। लेकिन 1943 में अज्ञेय के संपादन में 'तार-सप्तक' के प्रकाशन से प्रयोगवादी कविता का आकार स्पष्ट होने लगा और दूसरे तार-सप्तक के प्रकाशन वर्ष 1951 तक यह स्पष्ट हो गया। 

प्रयोगवाद का जन्म 'छायावाद' और 'प्रगतिवाद' की रुढ़ियों की प्रतिक्रिया में हुआ। डॉ. नगेन्द्र प्रयोगवाद के उत्थान के विषय में लिखते हैं,-"भाव क्षेत्र में छायावाद की अतिन्द्रियता और वायवी सौंदर्य चेतना के विरुद्ध एक वस्तुगत,मूर्त और ऐन्द्रिय चेतना का विकास हुआ और सौंदर्य की परिधि में केवल मसृण और मधुर के अतिरिक्त परुष,अनगढ़,भदेश का समावेश हुआ।" छायावादी कविता में वैयक्तिकता तो थी,किंतु उस वैयक्तिकता में उदात्त भावना थी। इसके विपरीत्त प्रगतिवाद में यथार्थ का चित्रण तो था,किंतु उसका प्रतिपाद्य विषय पूर्णत: सामाजिक समस्याओं पर आधारित था और उसमें राजनीति की बू थी। अत: इन दोनों की प्रतिक्रिया स्वरूप प्रयोगवाद का उद्भव हुआ, जो 'घोर अहंमवादी','वैयक्तिकता' एवं 'नग्न-यथार्थवाद' को लेकर चला।श्री लक्ष्मी कांत वर्मा के शब्दों में,"प्रथम तो छायावाद ने अपने शब्दाडम्बर में बहुत से शब्दों और बिम्बों के गतिशील तत्त्वों को नष्ट कर दिया था। दूसरे, प्रगतिवाद ने सामाजिकता के नाम पर  विभिन्न भाव-स्तरों एवं शब्द-संस्कार को अभिधात्मक बना दिया था।ऐसी स्थिति में नए भाव-बोध को व्यक्त करने के लिए न तो शब्दों में सामर्थ्य था और न परम्परा से मिली हुई शैली में। परिणामस्वरूप उन कवियों को  जो इनसे पृथक थे,सर्वथा नया स्वर और नये माध्यमों का प्रयोग करना पड़ा। ऐसा इसलिए और भी करना पड़ा,क्योंकि भाव-स्तर की नई अनुभूतियां विषय और संदर्भ में इन दोनों से सर्वथा भिन्न थी।

प्रयोगवाद नाम तारसप्तक में अज्ञेय के इस वक्तव्य से लिया गया-"प्रयोग सभी कालों के कवियों ने किए हैं। किंतु कवि क्रमश: अनुभव करता आया है कि जिन क्षेत्रों में प्रयोग हुए हैं, आगे बढ़कर अब उन क्षेत्रों का अन्वेषण करना चाहिए जिन्हें अभी छुआ नहीं गया था जिनको अभेद्य मान लिया गया है।"

इन अन्वेषणकर्ता कवियों में अज्ञेय ने तार सप्तक में ऐसे सात-सात कवियों को अपनाया "जो किसी एक स्कूल के नहीं हैं,किसी एक विचारधारा के नहीं हैं,किसी मंजिल पर पहुंचे हुए नहीं हैं,अभी राही हैं- राही नहीं,राहों के अन्वेषी।...काव्य के प्रति एक अन्वेषी का दृष्टिकोण उन्हें समानता के सूत्र में बांधता है।...उन में मतैक्य नहीं है,सभी महत्वपूर्ण विषय में उनकी अलग-अलग राय है- जीवन के विषय में,समाज और धर्म और राजनीति के विषय में,काव्य-वस्तु और शैली के छंद और तुक में,कवि के दायित्वों के, प्रत्येक विषय में उनका आपस में मतभेद है। यहां तक कि हमारे जगत के ऐसे सर्वमान्य और स्वयं सिद्ध मौलिक सत्यों को भी वे स्वीकार नहीं करते, जैसे- लोकतंत्र की आवश्यकता,उद्योगों का समाजीकरण,यांत्रिक युद्ध की उपयोगिता,वनस्पति घी की बुराई अथवा काननबाला और सहगल के गानों की उत्कृष्टता इत्यादि। वे सब एक-दूसरे की रुचियों,कृतियों और आशाओं और विश्वासों पर एक-दूसरे की जीवन-परिपाटी पर और यहां तक कि एक-दूसरे के मित्रों और कुत्तों पर भी हंसते हैं।"

प्रयोगवादी कवियों का नए के प्रति यह आग्रह ही इन्हें प्रयोगवादी बनाता है। प्रयोगवाद के स्वरूप को स्पष्ट करते हुए इस धारा के कवियों ने अपने विचार व्यक्त किए हैं:-

अज्ञेय :प्रयोगशील कविता में नए सत्यों,नई यथार्थताओं का जीवित बोध भी है,उन सत्यों के साथ नए रागात्मक संबंध भी और उनको पाठक या सहृदय तक पहुंचाने यानी साधारणीकरण की शक्ति भी है।

डॉ. धर्मवीर भारती : प्रयोगवादी कविता में भावना है,किंतु हर भावना के आगे एक प्रश्न-चिह्न लगा है। इसी प्रश्न-चिह्न को आप बौद्धिकता कह सकते हैं। सांस्कृतिक ढ़ांचा चरमरा उठा है और यह प्रश्न चिह्न उसी की ध्वनि-मात्र है।

श्री गिरिजाकुमार माथुर: प्रयोगों का लक्ष्य है व्यापक सामाजिक सत्य के खंड अनुभवों का साधारणीकरण करने में कविता को नवानुकूल माध्यम देना,जिसमें व्यक्ति द्वारा इस व्यापक सत्य का सर्वबोधगम्य प्रेषण संभव हो सके।

प्रयोगवाद को आकार देने में जहां 'सप्तकों' की भूमिका रही वहीं अनेक पत्रिकाओं ने भी इसकी राह को सरल बनाया। तार-सप्तकों की संख्या चार है। पहला सप्तक 1943, दूसरा 1951, तीसरा 1959 और चौथा सप्तक 1979 में प्रकाशित हुआ। पत्रिकाओं में' प्रतीक', 'पाटल', 'दृष्टिकोण', 'कल्पना', 'अजंता', 'राष्ट्रवाणी', 'धर्मयुग', 'नई कविता', 'निकष', 'ज्ञानोदय', 'कृति', 'लहर', 'निष्ठा', 'शताब्दी', 'ज्योत्स्ना', 'आजकल', 'कल्पना आदि हैं।


प्रयोगवाद को प्रतीकों की प्रधानता और नवीन प्रतीकों को अपनाने के कारण 'प्रतीकवाद' नाम से भी अभिहित किया गया। प्रयोगवाद से कुछ लोगों का अभिप्राय 'रूपवाद' अथवा 'फार्मलिज्म' तक सीमित है। लेकिन रूपवाद प्रयोगवाद की शाखा-मात्र है। क्योंकि प्रयोगवादी केवल रूप-विधान या तकनीक पर ही ध्यान नहीं देते; उसमें अन्य तत्व भी मौजूद हैं।

प्रयोगवाद के भीतर ही 'प्रपद्यवाद' या 'नकेनवाद' भी पनपा लेकिन वह प्रयोगवाद की एक छोटी शाखा-मात्र बन कर रह गया। नकेनवाद बिहार में प्रचलित हुआ। 'नलिन विलोचन शर्मा','केसरीकुमार' और 'नरेश' नामों के प्रथम अक्षर से बना है नकेन। नकेनवादी तीनों कवियों ने 'प्रयोग-दशसूत्री' में प्रयोगवाद और प्रयोगशीलता में अंतर स्पष्ट किया है। ये प्रयोग को ही काव्य का एकमात्र लक्ष्य मानते हैं।

डॉ जगदीश चंद्र गुप्त  और श्री रामस्वरूप चतुर्वेदी ने 1954 में' नई कविता' नाम से एक पत्रिका का प्रकाशन शुरु किया। इसने प्रयोगवादी कविता को नई कविता का नाम दिया। कुछ आलोचक नई कविता और प्रयोगवाद में कोई अंतर नहीं मानते जबकि कुछ का मानना है कि दोनों को एक समझने की भूल नहीं करनी चाहिए। हमारे दृष्टिकोण से नई कविता प्रयोगवाद का ही विकसित या स्थापित हुआ रूप है। प्रयोगवादी कविता जब काव्य जगत में स्वीकृत हो गई तो उसे नई कविता के नाम से अभिहित किया गया। जो लोग प्रयोगवाद और नई कविता को अलग-अलग रूप में देखते हैं वे दलगत राजनीति के शिकार हैं।


टिप्पणियाँ

  1. अज्ञेय को प्रयोगवाद नामक आंदोलन के प्रवर्तक के रूप में भी जाना जाता है। नई कविता प्रयोगशील कविता का ही विकास हइ। इनमें एक द्वंद रोमांटिक और आधुनिक के बीच था तो दूसरा परंपरा और आधुनिकता के बीच।
    आपकी यह आलेख श्रृंखला ब्लॉग जगत में एक मील का पत्थर है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. धन्यवाद मनोज जी इस उत्साह वर्धन के लिए...नई कविता और प्रयोगवाद में अंतर के लिए कुछ पोस्ट तक इंतजार कीजिए.

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रयोगवाद के विषय में जानकारी देता अच्छा लेख

    उत्तर देंहटाएं
  4. भारती जी,आपका पोस्ट मेरे लिए तो पुनरावृति का कार्य कर रहा है । इसे पढ़ते हुए मन वीते वासर में जाने लगता है । प्रयोगवाद के विषय में आपके द्वारा प्रस्तुत सटीक जानकारी ने मन को REFRESH कर दिया । इस ज्ञानवर्धक पोस्ट के लिए आप प्रशंसा के पात्र हैं । .मेरा भी मनोबल बढाने के लिए आपका आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्रयोगवाद और उसका बदलता रूप, नई कविता और उसका रूपांतरित स्वरुप, वर्त्तमान कविता तक की यात्रा यह सब मेरे लिए जिज्ञासा रहे हैं और सीखने का अनुभव भी.. आपकी इस श्रृंखला से बहुत कुछ सीखने को मिला है और बहुत कुछ समझने में सफल हो पाया हूँ.. आप भले ही असहमत हों, किन्तु एक गूढ़ साहित्यिक विषय पर इतने सरल शब्दों में लिखे गए आलेख एक प्रशंसनीय प्रयास है!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रयोगवाद और नई कविता में अंतर करना साहित्यिक गिरोहबाज़ी का ही नतीजा है. प्रयोगधर्मिता और नयापन हर युग में रहा है. बढ़िया आलेख.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद भारत भूषण जी!!! हिंदी साहित्य का यह दुर्भाग्य रहा है कि यहां गुटबाजी और गिरोहबाजी ने उत्कृष्ट साहित्य को पनपने में बहुत रोड़े अटकाएं हैं;लेकिन फिर भी कुछ प्रतिभाएं फूट ही पड़ती हैं।

      हटाएं
  7. बहुत सुन्दर, महत्वपूर्ण एवं ज्ञानवर्धक लेख! आपके हर पोस्ट से ज्ञान प्राप्त होता है और बहुत अच्छा लगता है!

    उत्तर देंहटाएं
  8. hindi roop aur prakar ka bahut accha lekh
    gyanverdhak lekh ke liye badhai

    उत्तर देंहटाएं
  9. आज पहली बार आपके ब्लॉग पर आना हुआ...
    लगा कोई ऐसी कक्षा मिली जहाँ ज्ञान का असीमित भण्डार है....
    कुछ पा सकूँ तो भाग्यशाली हूँ...


    आपका बहुत आभार.
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद आपका कि आपको यह ब्लॉग पसंद आया...हिंदी साहित्य के लिए यह मेरा एक छोटा सा प्रयास है।

      हटाएं
  10. धन्यवाद आपका...कि आपको यह प्रयास पसंद आया।

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपका आलेख बहुत अच्छा लगा । इन तीन कवियों के अलावा मुक्तिबोध ,नरेशमेहता ,शमसेरबहादुर रघुवीरसहाय गिरिजाकुमार माथुर आदि अनेक कवि हैं जिन्होंने प्रयोगवाद के पल्लवन में महती भूमिका निभाई । आपसे यह नई बात जानी कि नई कविता अलग नही जबकि हिन्दी-कविता के इतिहास में नई कविता को प्रयोगवाद के बाद की कविता बताया है जो फ्रायड के सिद्धान्तों से भी मुक्त थी ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपका ब्लॉग शायद आज पहली बार ही देखा; ऐसा लगा जैसे किसी हिंदी व्याख्यान कक्षा में पहुँच गए हों! बहुत अच्छी जानकारी भरा एक सार्थक लेख!
    हार्दिक बधाई और धन्यवाद!
    सादर/सप्रेम
    सारिका मुकेश

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद इस कक्षा को पसंद करने के लिए.

      हटाएं
  13. इस श्रृंखला को आगे बढ़ाइए। प्रगतिशीलवाद की तरफ़।

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपके ब्लॉग पर लगा हमारीवाणी क्लिक कोड ठीक नहीं है और इसके कारण हमारीवाणी लोगो पर क्लिक करने से आपकी पोस्ट हमारीवाणी पर प्रकाशित नहीं हो पाएगी. कृपया लोगिन करके सही कोड प्राप्त करें और इस कोड की जगह लगा लें. क्लिक कोड पर अधिक जानकारी के लिए निम्नलिखित लिंक पर क्लिक करें.
    http://www.hamarivani.com/news_details.php?news=41

    टीम हमारीवाणी

    उत्तर देंहटाएं
  15. आपके इस पोस्ट पर अपनी प्रतिक्रिया दे चुका हूं ।मेरे नए पोस्ट "अतीत से वर्तमान तक का सफर पर" आपका इंतजार रहेगा। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणी का इंतजार है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आदिकाल के प्रमुख कवि और उनकी रचनाएँ

रीतिकाल की प्रवृत्तियाँ

छायावाद की प्रवृत्तियां