प्रयोगवाद के कवि और उनकी रचनाएं

प्रयोगवाद के कवियों में हम सर्वप्रथम तारसप्तक के कवियों को गिनते हैं और इसके प्रवर्तक कवि सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन अज्ञेय ठहरते हैं। जैसा कि हम पहले कह आए हैं कि तारसप्तक 1943 ई. में प्रकाशित हुआ। इसमें सातकवियों को शामिल किए जाने के कारण इसका नाम तारसप्तक रखा गया। इन कवियों को अज्ञेय ने पथ के राही कहा। ये किसी मंजिल पर पहुंचे हुए नहीं हैं,बल्कि अभी पथ के अन्वेषक हैं। इसी संदर्भ में अज्ञेय ने प्रयोग शब्द का प्रयोग किया, जहां से प्रयोगवाद की उत्पत्ति स्वीकार की जाती है। इसके बाद 1951 ई. में दूसरा,1959 ई में तीसरा और 1979 में चौथा तारसप्तक प्रकाशित हुए। जिनका संपादन स्वयं अज्ञेय ने किया है। आइए,सर्वप्रथम हम इन चारों तारसप्तकों के कवियों के नामों से परिचित हो लें।

1. तारसप्तक के कवि: अज्ञेय,भारतभूषण अग्रवाल,मुक्तिबोध,प्रभाकर माचवे,गिरिजाकुमार माथुर,नेमिचंद्र जैन,रामविलास शर्मा।

2. दूसरे तारसप्तक के कवि: भवानीप्रसाद मिश्र, शंकुत माथुर, नरेश मेहत्ता,रघुवीर सहाय,शमशेर बहादुर सिंह,हरिनारायण व्यास,धर्मवीर भारती।

3. तीसरे तारसप्तक के कवि: प्रयागनारायण त्रिपाठी, कीर्ति चौधरी, मदन वात्स्यायन, केदारनाथ सिंह,कुंवर नारायण, विजयदेव नारायण साही, सर्वेश्वर दयाल सक्सेना।

4. चौथे तारसप्तक के कवि : अवधेश कुमार, राजकुमार कुंभज ,स्वदेश भारती, नंद किशोर आचार्य,सुमन राजे, श्रीराम शर्मा, राजेन्द्र किशोर।

प्रयोगवाद में ही शामिल है नकेनवाद या प्रपद्यवाद। नकेनवाद के कवि हैं: 1.नलिनविलोचन शर्मा 2.केसरी कुमार 3.नरेश।

अब हम इन कवियों की काव्य-रचनाओं से परिचित हों। 

1. सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन अज्ञेय(1911-1987): 1.भग्नदूत 2.चिंता 3.हरी घास पर क्षण भर 4.बावरा अहेरी 5.अरी ओ करुणा प्रभामय 6.आंगन के पार द्वार 7. इत्यलम 8. इंद्र-धनुष रौंदे हुए थे 9.सुनहले शैवाल 10.कितनी नावों में कितनी बार 11.सागर-मुद्रा 12.क्योंकि मैं उसे जानता हूं 13.पहले सन्नाटा बुनता हूं 14.महावृक्ष के नीचे 15.नदी की बांक पर छाया।

2. भारतभूषण अग्रवाल(1919-1975): 1.छवि के बंधन 2.जागते रहो 3.मुक्ति-मार्ग 4.एक उठा हुआ हाथ 5.ओ अप्रस्तुत मन 6.कागज के फूल 7.अनुपस्थित लोग 8.उतना वह सूरज है।

3. गजानन माधव मुक्तिबोध(1917-1964): 1.चांद का मुंह टेढ़ा है 2.भूरी-भूरी खाक धूल।

4.प्रभाकर माचवे(1917-       ): 1.स्वप्न-भंग 2.अनुक्षण 3.तेल की पकौड़ियां 4.मेपल।

5. गिरिजाकुमार माथुर(1919-1994     ): 1.नाश और निर्माण 2.धूप के धान 3.शिला पंख चमकीले 4.मंजीर 5.भीतरी नदी की यात्रा 6.जो बंध नहीं सका 7. छाया मत छूना मन 8.साक्षी रहे वर्तमान 9.कल्पांतर।

6.नेमिचंद्र जैन(1918- ):विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में कविताएं प्रकाशित।

7.राम विलास शर्मा( ): 1.रूप-तरंग (ये प्रयोगवादी से अधिक प्रगतिवादी कवि हैं और मार्क्सवादी समीक्षक व आलोचक हैं)

8. भवानीप्रसाद मिश्र(1914-1985): 1.गीत-फरोश 2.अंधेरी कविताएं 3.चकित हैं दु:ख 4.त्रिकाल संध्या 5.बुनी हुई रस्सी 6.गांधी पंशशती 7.खुशबू के शिलालेख 8.त्रिकाल संध्या 9.अनाम तुम आते हो 10.परिवर्तन जिए 11.मानसरोवर दिन

9.शकुंत माथुर(1922- ): 1.चांदनी चूनर 2.सुहाग बेला 3.कूड़े से भरी गाड़ी।

10.नरेश मेहता(1927- ): 1.बोलने दो चीड़ को 2.मेरा समर्पित एकांत 3.वनपाखी सुनो 4.संशय की एक रात 5.उत्सवा।

11.रघुवीर सहाय(1929-  ): 1.सीढ़ियों पर धूप में 2.आत्महत्या के विरुद्ध 3.हंसो हंसो जल्दी हंसो 4.लोग भूल गए हैं।

12.शमशेर बहादुर सिंह(1911-1993): 1.चुका भी नहीं हूं मैं 2.ददिता 3.बात बोलेगी हम नहीं 4.कुछ कविताएं 5.कुछ और कविताएं 5.इतने पास अपने।

13.हरिनारायण व्यास( ): 1.मृग और तृष्णा 2.त्रिकोण पर सूर्योदय।

14.धर्मवीर भारती(1926-1997): 1.कनुप्रिया 2.ठंडा लोहा 3.सात गीत वर्ष 4.अंधा-युग।

15.प्रयाग नारायण त्रिपाठी(   ):विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में कविताएं प्रकाशित।

 16.कीर्ति चौधरी(1935- ): 1.खुले हुए आसमान के नीचे 2.कविताएं

17. मदन वात्स्यायन(  ):1.अपथगा 2.शुक्रतारा।

18.केदारनाथ सिंह(1934-  ): 1.अभी बिल्कुल अभी 2.जमीन पक रही है 3.यहां से देखो

19.कुंवर नारायण(1927-  ): 1.चक्र-व्यूह 2.आत्मजयी 3.परिवेश 4.हम-तुम 5.आमने-सामने।

20.विजय देव नारायण साही(1924-   ): 1.मछली-घर 2.साखी ।

21.सर्वेश्वर दयाल सक्सेना(1927-1984  ): 1.काठ की घंटियां 2.एक सूनी नाव 3.गर्म-हवाएं 4.बांध का पुल 5.जंगल का दर्द 6.कुआनो नदी 7.बांस के पुल 8.कविताएं-1,   9.कविताएं-2,   10.खूंटियों पर टंगे लोग।

22.नलिन विलोचन शर्मा(   ):नकेन प्रपद्य

23.केसरी कुमार( ):  नकेन प्रपद्य

24.नरेश(     ): नकेन प्रपद्य

तार-सप्तक परम्परा के अतिरिक्त कुछ अन्य भी प्रयोगवादी कवि हैं: चंद्रकुंवर वर्त्वाल,राजेन्द्र यादव,सूर्यप्रताप। तार सप्तक परंपरा के सभी कवि प्रयोगवादी हों,ऐसी बात भी नहीं है। रामविलास शर्मा और भवानीप्रसाद मिश्र पर प्रगतिवाद का पर्याप्त प्रभाव है। इधर मुक्तिबोध में एक अलग ही तरह का विस्फोटक तत्व मौजूद है।

टिप्पणियाँ

  1. बूँद बूँद कर काव्यशास्त्र का इतिहास प्रयोगवाद की दहलीज तक आ पहुंचा.. बड़े ही व्यवस्थित और संतुलित तौर पर आपने यह श्रृंखला प्रस्तुत की है और कर रहे हैं.. पाठक कहीं भी बोझिल नहीं होता है और तथ्य के प्रति आकर्षण बना रहता है.. साधुवाद!!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सलिल जी!, काव्यशास्त्र और काव्य के इतिहास में अंतर है। काव्यशास्त्र कविता की रचना पद्धति को निर्धारित करता है,जबकि काव्य के या कविता के इतिहास में काव्य की या कविता की प्रवृत्तियों के आधार पर विभिन्न कालों में हुए कवियों की कविताओं का व्यवस्थित अध्ययन किया जाता है।

      शृंखला आपको अच्छी लग रही है,इसके लिए धन्यवाद!!!

      हटाएं
  2. तार सप्तक के रचनाकारों और उनकी पुस्तकों से परिचय कराने के लिए आभार।

    जवाब देंहटाएं
  3. डॉ शिवदयाल पटेल18 जून 2016 को 5:26 am

    क्रमबद्ध और व्यवस्थित जानकारी को याद करने में आसानी होती है । तारसप्तक के कवियों एवं उनकी रचनाओं की व्यवस्थित जानकारी के लिए धन्यवाद ।

    जवाब देंहटाएं
  4. तारसप्तक के कवि और उनकी रचनाओं का अच्छा संकलन है।

    धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
  5. धन्यवाद के पात्र हैं
    अत्यधिक महत्वपूर्ण सूचना हेत

    जवाब देंहटाएं
  6. धन्यवाद के पात्र हैं
    अत्यधिक महत्वपूर्ण सूचना हेत

    जवाब देंहटाएं
  7. धन्यवाद के पात्र हैं
    अत्यधिक महत्वपूर्ण सूचना हेतु

    जवाब देंहटाएं
  8. Aapne Bhut Badiya likhna lekin sath me year bhi hota to aasan rahta

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत ही सुंदर संकलन,सहृदय धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  10. Agar nakenwad ko or vistar se likha jata to aacha hota
    Jasee-(1) inhone kin manyatao ka khandan kiya
    (2) kin sabdo per bal diya
    (3) nakeen sabdh ki utpatti kase hui....?

    जवाब देंहटाएं
  11. हम छात्रों के लिए बहुत महत्वपूर्ण संकलन ...

    धन्यवाद !

    जवाब देंहटाएं
  12. Very good wark
    Jo nakenwad me naresh h
    Wo naresh Mehta se alg h kya

    जवाब देंहटाएं
  13. तार सप्तक एक काव्य संग्रह है I सचिदानन्द हीराचंद्र वात्स्यायन 'अज्ञेय 'के सम्पदान मे 4सप्तक प्राकाशित है I प्रथम तार सप्तक का प्रकाशन 1943 ई मे हुआ था

    जवाब देंहटाएं
  14. Girja kumar mathur ki kabya sangra par Parkash dailye
    Please halp me

    जवाब देंहटाएं
  15. Hi friends, its great piece of writing regarding teachingand completely explained,keep it up all the time.파친코

    जवाब देंहटाएं
  16. 슬롯머신 Hi friends, its great piece of writing regarding teachingand completely explained,keep it up all the time.

    जवाब देंहटाएं
  17. Hi friends, its great piece of writing regarding teachingand completely explained,keep it up all the time.바카라사이트

    जवाब देंहटाएं
  18. Hi friends, its great piece of writing regarding teachingand completely explained,keep it up all the time.온라인카지노

    जवाब देंहटाएं
  19. Hi friends, its great piece of writing regarding teachingand completely explained,keep it up all the time.토토

    जवाब देंहटाएं
  20. Hi friends, its great piece of writing regarding teachingand completely explained,keep it up all the time.홀덤

    जवाब देंहटाएं
  21. Thank you a lot for providing individuals with such a memorable chance to read articles and blog posts from this web site. It’s usually so lovely and also full of fun for me personally and my office co-workers to visit your blog really three times in one week to see the new secrets you have got. Not to mention, I am certainly fascinated with all the brilliant knowledge you give. Certain 1 ideas in this article are unequivocally the most efficient we have all ever had.
    카지노사이트

    जवाब देंहटाएं
  22. can any post on a personal blog (with disclaimer that it is his personal view) be used by any brand for filing a case against an individual for ‘brand tarnishing’ etc?.카지노사이트

    जवाब देंहटाएं
  23. I precisely needed to thank you very much once more. I am not sure the things that I would have worked on without the type of information provided by you concerning this subject. It was before an absolute troublesome setting in my position, but viewing a new specialised style you managed that forced me to cry with gladness. I am thankful for your service and wish you really know what a powerful job that you’re accomplishing training others through your web site. Probably you have never got to know any of us.
    카지노사이트

    जवाब देंहटाएं
  24. It is in reality a nice and helpful piece of information. I am satisfied that you just shared this useful information with us.
    Please stay us up to date like this. Thanks for sharing.
    카지노사이트

    जवाब देंहटाएं
  25. Hello, the whole thing is going sound here and ofcourse every one is sharing information, that’s truly fine, keep up writing.
    바둑이사이트

    जवाब देंहटाएं
  26. I am really happy to say it’s an interesting post to read . I learn new information from your article , you are doing a great job . Keep it up

    야동

    जवाब देंहटाएं
  27. I am looking for some good blog sites for studying. I was searching over search engines and found your blog site.

    오피

    जवाब देंहटाएं
  28. Really This goes far beyond the commenting! It wrote his thoughts while reading the article amazingly :)

    마사지

    जवाब देंहटाएं
  29. Really This goes far beyond the commenting! It wrote his thoughts while reading the article amazingly :)

    건전마사지

    जवाब देंहटाएं
  30. If you desire to grow your know-how simply keep visiting this web page and be updated with the most recent information posted here.포커게임

    जवाब देंहटाएं
  31. If you desire to grow your know-how simply keep visiting this web page and be updated with the most recent information posted here.슬롯머신

    जवाब देंहटाएं
  32. If you desire to grow your know-how simply keep visiting this web page and be updated with the most recent information posted here.온라인카지노

    जवाब देंहटाएं
  33. If you desire to grow your know-how simply keep visiting this web page and be updated with the most recent information posted here.호텔카지노

    जवाब देंहटाएं
  34. If you desire to grow your know-how simply keep visiting this web page and be updated with the most recent information posted here.스포츠토토

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणी का इंतजार है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आदिकाल की प्रवृत्तियाँ

आदिकाल के प्रमुख कवि और उनकी रचनाएँ

छायावाद की प्रवृत्तियां